love shayari

वो मेरे रु-बा-रु आया भी तो बरसात के मौसम में,
मेरे आँसू बह रहे थे और वो बरसात समझ बैठा।


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां