ज़िन्दगी को देखने...

ज़िन्दगी को देखने का सबका अपना - अपना नज़रिया होता है , 
कुछ लोग स्टेटस में ही दिल की बात कह देते है
 और कुछ लोग गीता पर हाथ रखकर भी सच नही बोलते ..


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां