सुख दुख तो....

सुख दुख तो अतिथि है, 
बारी बारी से आएंगे, 
चले जाएंगे यदि वह नहीं आएंगे तो, 
हम अनुभव कहां से लाएंगे! 
        **सुप्रभात**

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां