रहने दो कि...

रहने दो कि अब तुम भी मुझे पढ़ न सकोगे,
बरसात में काग़ज़ की तरह भीग गया हूँ मैं।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां